1000+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे

 मुहावरा वह वाक्यांश जो सामान्य अर्थ को छोड़कर किसी विशेष अर्थ में प्रयुक्त होता है; मुहावरे में उसके लाक्षणिक 
और व्यंजनात्मक अर्थ को ही स्वीकार किया जाता है । वाक्य में प्रयुक्त किए जाने पर ही मुहावरा सार्थक प्रतीत होता है । हिन्दी मुहावरे


100+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे 

 * अपना उल्लू सीधा करना - अपना स्वार्थसिद्ध करना ।
 * दिन दूना रात चौगुना बढ़ना - दिन-प्रतिदिन अधिक उन्नति करना ।
 * अक्ल पर पत्थर पड़ना - बुद्‌धि काम न करना ।
 * आँखों में धूल झोंकना - धोखा देना ।
 * आँखें बिछाना - अति उत्साह से स्वागत करना ।
 * कान में कौड़ी डालना - गुलाम बनाना ।
 * कंगाली में आटा गीला होना - विपत्ति में और अधिक विपत्ति आना ।
 * कुएँ में बाँस डालना - जगह-जगह खोज करना ।
 * गुड़ गोबर करना - बने काम को बिगाड़ देना ।
 * गड़े मुर्दे उखाड़ना - पुरानी कटु बातों को याद करना ।
 * कटे पर नमक छिड़कना - दुखी को और दुखी बनाना ।
 * एक और एक ग्यारह - एकता में शक्ति होना 
 * घर फूँक तमाशा देखना - अपनी ही हानि करके प्रसन्न होना ।
 * घाट-घाट का पानी पिया होना - हर प्रकार के अनुभव से परिपूर्ण होना ।
 * चाँदी काटना - बहुत लाभ कमाना ।

100+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे 

 * जहर का घूँट पीना - अपमान काे चुपचाप सह लेना ।
 * जी-जान से काम करना - पूरी क्षमता के साथ काम करना ।
 * तिल का ताड़ बनाना - छोटी बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहना ।
 * पत्थर की लकीर होना - पक्की बात ।
 * पेट में दाढ़ी होना - छोटी आयु में बुद्‌धिमान होना ।
 * फूँक-फूँककर पाँव रखना - अति सावधानी बरतना ।
 * मुट्ठी गर्म करना - रिश्वत देना ।
 * रंग में भंग होना - प्रसन्नता के वातावरण में विघ्न पड़ना ।
 * शक्ल पर बारह बजना - बड़ा उदास रहना ।
 * सितारा चमकना - भाग्योदय होना
 * आठ-आठ आँसू रोना - बहुत अधिक रोना ।
 * आँखें चार होना - प्रेम होना ।
 * अगर-मगर करना - टाल-मटोल करना ।
 * अपना ही राग अलापना - अपनी ही बातें करते रहना ।
 * आसमान पर थूकना - अशोभनीय कार्य करना ।
 * उल्टी गंगा बहाना - उल्टा काम करना ।
* उगल देना - भेद बता देना ।
 * ओखली में सिर देना - जान-बूझकर जोखिम उठाना ।
 * एक लाठी से हाँकना - सबके साथ समान व्यवहार करना ।
 * चार चाँद लगाना - शोभा बढ़ाना ।
 * पापड़ बेलना - कड़ी मेहनत करना ।
 * कान भरना - चुगली करना ।

100+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे 

 * कोल्हू का बैल - लगातार काम में लगे रहने वाला । बहुत परिश्रम करने वाला ।
 * कब्र में पैर लटकना - मरने के समीप होना ।
 * कागजी घोड़े दौड़ाना - लिखा-पढ़ी करना ।
 * कौड़ी-कौड़ी का मोहताज - अत्यंत निर्धन होना ।
 * खाला का घर - आसान काम ।
 * खाल मोटी होना - बेशर्म होना ।
 * गिरगिट की तरह रंग बदलना - अवसरवादी होना ।
 * घोड़े बेचकर सोना - गहरी नींद सोना । निश्चिंत होकर सोना ।
 * हाथ खींचना - साथ न देना ।
 * चोली-दामन का साथ होना - घनिष्ठ संबंध होना ।
 * चोर की दाढ़ी में तिनका - अपराधी का भयभीत और सशंकित रहना ।
 * जली-कटी सुनाना - कटु-चुभती बातें करना ।
 * डकार तक न लेना - सब कुछ हजम कर लेना ।

100+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे 

 * डूबती नाव पार लगाना - कष्टों से छुटकारा देना ।
 * तलवे चाटना - खुशामद करना ।
 * दाल न गलना - काम न बनना । चतुराई काम न आना ।
 * पेट काटना - भूखा रहना ।
 * पाँचों उँगलियाँ घी में होना - चहुँतरफ लाभ होना ।
 * पोंगा होना - नासमझ होना ।
 * बात का धनी - वचन का पक्का
 * मरने की फुरसत न होना - कामों में बहुत व्यस्त होना ।
 * मूँछ उखाड़ना - घमंड चूर-चूर कर देना ।
 * रोटियाँ तोड़ना - मुफ्त में खाना ।
 * वीरगति को प्राप्त होना - युद्ध में वीरतापूर्वक मृत्यु पाना ।
 * स्वांग भरना - विचित्र वेश बनाना, किसी की नकल उतारना ।
 * हवा लगना - असर पड़ना/होना ।
 * हवाई किले बनाना - बहुत अधिक कल्पना करना ।
 * दाई से पेट छिपाना - भेद जानने वाले से सच्ची बात छिपाना ।
 * सिर खपाना - कठोर परिश्रम करना ।
 * खबर गरम होना - चर्चा-ही-चर्चा होना ।
 * चिराग तले अँधेरा - गुणवान व्यक्ति में भी दोष होना ।

100+ हिन्दी मुहावरे - Hindi Muhavare मुहावरे 

* अंकुर जमाना - प्रारंभ करना ।
* अपने पैरों पर खड़ा होना - आत्मनिर्भर होना ।
* आँच न आने देना - संकट न आने देना ।
* आँखों में सैलाब उमड़ना - फूट-फूटकर रोना ।
* आँखें फटी रहना - आश्चर्यचकित रह जाना ।
* आईने में मुँह देखना - अपनी योग्यता जाँचना ।
* आसमान के तारे तोड़ना - असंभव कार्य करना ।
* ईंट का जवाब पत्थर से देना - कड़ा जवाब देना
* उधेड़ बुन में लगना - सोच-विचार करना ।
* एक आँख से देखना - समान रूप से देखना ।
* एक और एक ग्यारह होना - एकता में बल होना ।
* कदम बढ़ाना - प्रगति करना ।
* कमर कसना - पूरी तरह तैयार होना ।
* कमर सीधी करना - आराम करना, सुस्ताना ।
* कलई खुलना - भेद प्रकट होना ।
* कान देना - ध्यान से सुनना ।
* किस्मत खुलना - भाग्य चमकना ।
* गले का हार होना - अत्यंत प्रिय होना ।
* गागर में सागर भरना - थोड़े में बहुत कहना ।
* घी के दीये जलाना - खुशी मनाना ।
* चिकना घड़ा होना - निर्लज्ज होना ।
* चुटकी लेना - व्यंग्य करना ।
* जबान देना - वचन देना ।
* झंडे गाड़ना - पूर्ण रूप से प्रभाव जमाना ।
* डंका पीटना - प्रचार करना ।
* तितर-बितर होना - बिखर जाना ।
* हजारों दीप जल उठना - आनंदित हो उठना ।
* रुपये दाँत से पकड़ना - कंजूसी करना ।
* दूध का दूध, पानी का पानी करना - इनसाफ करना, न्याय करना ।
* नाम कमाना - यश प्राप्त करना ।
* पाँचों उंगलियाँ घी में होना - हर तरफ से लाभ होना ।
* फूला न समाना - अत्यधिक प्रसन्न होना ।
* बीड़ा उठाना - किसी काम को करने की ठान लेना ।
* बाँछें खिलना - अत्यधिक प्रसन्न होना ।
* मरजीवा होना - कठोर साधना से लक्ष्य तक पहुँचने वाला होना ।
* मल्हार गाना - आनंद मनाना ।
* राई का पहाड़ बनाना - बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहना ।
* लोहा मानना - श्रेष्ठता स्वीकार करना ।
* सफेद झूठ बोलना - पूरी तरह से झूठ बोलना ।
* सिर खपाना - ऐसे काम में समय लगाना जिसमें कोई लाभ नहीं ।
* सिर पर सेहरा बाँधना - अधिक यश प्राप्त करना ।
* सोना उगलना - बहुत अधिक लाभ होना ।
* साै बात की एक बात - असली बात, निचोड़ ।
* हाथ-पैर मारना - बहुत प्रयत्न करना ।
* हौसला बुलंद होना - उत्साह बना रहना ।
* श्रीगणेश करना - कार्य आरंभ करना ।
* दाँतों तले उँगली दबाना - आश्चर्यचकित होना ।
* अंधे की लाठी होना - निराधार का सहारा बनना ।
* आग से खेलना - मुसीबत मोल लेना ।
* मुट्ठी गर्म करना - रिश्वत देना ।
* इतिश्री होना - समाप्त होना ।
* उड़ती चिड़िया पहचानना - तीक्ष्ण बुद्‌धि वाला होना ।
* हथेली पर सरसों जमाना - कठिन कार्य करना ।
* कंचन बरसना - धन-दौलत से परिपूर्ण होना ।
* कानों कान खबर न होना - बिल्कुल पता न चलना ।
* गाल बजाना - अपनी प्रशंसा आप करना ।
* घड़ों पानी पड़ना - बहुत लज्जित होना ।
* चिकनी-चुपड़ी बातें करना - चापलूसी करना, मीठी-मीठी बातें बोलना ।
* छाती पर साँप लोटना - ईर्ष्या होना ।
* तूती बोलना - प्रभाव होना ।
* दो टूक जवाब देना - स्पष्ट बोलना ।
* नुक्ताचीनी करना - आलोचना करना ।
आँखों पर परदा पड़ना ।
* एड़ी-चोटी का जोर लगाना ।
* रुपया पानी की तरह बहाना ।
* पहाड़ सेटक्कर लेना ।
* जान हथेली पर धरना (रखना) ।
* लकीर का फकीर होना ।
* पगड़ी सँभालना ।
कहावतें/लोकोक्तियाँ
* अंधों मेंकाना राजा ।
* ओखली में सिर दिया तो मूसलों का क्या डर ।
* चमड़ी जाए पर दमड़ी न जाए ।
* जहाँन पहुँचेरवि, वहाँपहुँचेकवि ।
* अंधा बाँटेरेवड़ी अपनेकुल को देय ।
* अंधेर नगरी चौपट राजा ।
* आँख और कान मेंचार अंगुल का फर्कहै।
 
 सुवचन
* वसुधैव कुटुंबकम्।
* सत्यमेव जयते।
* पेड़ लगाओ, पृथ्वी बचाओ ।
* जल ही जीवन है।
* पढ़ेगी बेटी तो सुखी रहेगा परिवार ।
* अनुभव महान गुरु है।
* बेटी बचाओ,* काला अक्षर भैंस बराबर ।
* घाट-घाट का पानी पीना ।
* अकल केघोड़ेदौड़ाना ।
* पत्थर की लकीर होना ।
* भंडाफोड़ करना ।
* रंगा सियार होना ।
* हाँमेंहाँ मिलाना ।
* अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत ।
* हाथ कंगन को आरसी क्या ।
* चोर की दाढ़ी में तिनका ।
* कोयलेकी दलाली मेंहाथ काला ।
* अधजल गगरी छलकत जाए ।
* निंदक नियरेराखिए ।
* ढाक केतीन पात । बेटी पढ़ाओ ।
* अतिथि देवो भवः ।
* राष्ट्रही धन है।
* जीवदया ही सर्वश्रेष्ठ है।
* असफलता सफलता की सीढ़ी है।
* श्रम ही देवता है।
* राखौ मेलि कपूर में, हींग न होत सुगंध ।
* करत-करत अभ्यास केजड़मति होत सुजान ।

Post a Comment

Thanks for Comment

Previous Post Next Post