ㅤㅤ

बादल को घिरते देखा है कविता 9th हिंदी [ स्वाध्याय भावार्थ रसास्वादन ]

बादल को घिरते देखा है कविता 9th हिंदी [ स्वाध्याय भावार्थ रसास्वादन ]

अमल धवल गिरि केशिखरों पर,
बादल को घिरतेदेखा है।
छोटे-छोटेमोती जैसे
उसके शीतल तुहिन कणों को,
मानसरोवर केउन स्वर्णिम
कमलों पर गिरतेदेखा है,
बादल को घिरतेदेखा है।

तुंग हिमालय केकंधों पर
छोटी-बड़ी कई झीलेंहैं,
उनके श्यामल-नील सलिल में
समतल देशों सेआ-आकर
पावस की उमस सेआकुल
तिक्‍त-मधुर विष-तंतुखोजते
हंसो को तिरतेदेखा है।
बादल को घिरतेदेखा है।

ॠतुबसंत का सुप्रभात था
मंद-मंद था अनिल बह रहा
बालारुण की मृदु किरणेंथीं
अगल-बगल स्‍वर्णाभ शिखर थे
एक-दूसरेसे विरहित हो
अलग-अलग रहकर ही जिनको
सारी रात बितानी होगी,
बेबस उन चकवा-चकई का
बंद हुआ क्रंदन, फिर उनमें
उस महान सरवर केतीरे
शैवालों की हरी दरी पर
प्रेम-कलह छिड़तेदेखा है,
बादल को घिरतेदेखा है।

शत-सहस्र फुट ऊँचाई पर
दुर्गम बर्फानी घाटी में
अलख नाभि सेउठनेवाले
निज केही उन्मादक परिमल
केपीछेधावित हो-होकर
तरल तरुण कस्‍तूरी मृग को
अपनेपर चिढ़तेदेखा है,
बादल को घिरतेदेखा है।

कहाँगया धनपति कुबेर वह ?
कहॉंगई उसकी वह अलका ?
नहीं ठिकाना कालिदास के
व्योम प्रवाही गंगाजल का,
ढूँढ़ा बहुत परंतुलगा क्‍या
मेघदूत का पता कहीं पर,
कौन बताए वह छायामय
बरस पड़ा होगा न यहीं पर,
जानेदो, वह कवि कल्‍पित था,
मैंनेतो भीषण जाड़ों में
नभचुंबी कैलाश शीर्ष पर,
महामेघ को झंझानिल से
गरज-गरज भिड़तेदेखा है,
बादल को घिरतेदेखा है।

बादल को घिरते देखा है कविता 9th हिंदी [ स्वाध्याय भावार्थ रसास्वादन ]

बादल को घिरते देखा है कविता 9th हिंदी [ स्वाध्याय भावार्थ रसास्वादन ]


परिचय
जन्म ः ३० जून १९११, तैरोनी, दरभंगा (बिहार)
मृत्यु ः 5 नवंबर १९९8

परिचय ः नागार्जुन जी हिंदी और मैथिली केअप्रतिम लेखक और कवि थे। आप भारतीय वर्ग संघर्ष केकवि हैं। बाबा नागार्जुन हिंदी, मैथिली, संस्‍कृत तथा बांग्‍ला मेंकविताएँ लिखतेथे। 

प्रमुख कृतियाँ ः युगधारा, खिचड़ी, विप्लव देखा हमने, भूल जाओ पुराने सपनेआदि (कविता संग्रह) बाबा वटेसर नाथ, नई पौध, आसमान थे चाँद तारे आदि उपन्यास) कथा मंजरी भाग १-२, विद्यापति कीकहानियाँ(बालसाहित्‍य), अन्नहीनम क्रियानाम (निबंध संग्रह)

कविता ः रस की अनुभूति करानेवाली,सुंदर अर्थ प्र कट करनेवाली, हृदय कीकोमल अनुभूतियों का साकार रूपकविता है।प्रस्‍तुत कविता मेंबाबा नागार्जुन जी ने प्रकृति सौंदर्य केवास्‍तविक रूप का बड़ा सुंदर वर्णन किया है।

बादल को घिरते देखा है कविता 9th हिंदी [ स्वाध्याय भावार्थ रसास्वादन ]

Post a Comment

Thanks for Comment

Previous Post Next Post