ㅤㅤ

निबंध लेखन हिंदी | Nibandh Lekhan in hindi | Essay in Hindi

निबंध लेखन हिंदी | Nibandh Lekhan in hindi | Essay in Hindi 


निबंध लेखन एक कला है । निबंध का शाब्दिक अर्थहोता है ‘सुगठित अथवा ‘सुव्यवस्थित रूप में बँधा हुआ’ । साधारण गद्य रचना की अपेक्षा निबंध में रोचकता और सजीवता पाई जाती है । निबंध गद्य में लिखी हुई रचना होती है, जिसका आकार सीमित होता है । 

उसमें किसी विषय का प्रतिपादन अधिक स्वतंत्रतापूर्वक और विशेष अपनेपन और सजीवता के साथ किया जाता है । एकसूत्रता, व्यक्तित्व का प्रतिबिंब, आत्मीयता, कलात्मकता निबंध के तत्त्व माने जाते हैं । इन तत्त्वों के आधार पर निबंध की रचना की जाती है
निबंध लेखन हिंदी | Nibandh Lekhan in hindi | Essay in Hindi

निबंध लिखते समय निम्नलिखित बातों की ओर ध्यान दें 

  • प्रारंभ, विषय विस्तार, समापन इस क्रम से निबंध लेखन करें । 
  • विषयानुरूप भाषा का प्रयोग करें । 
  • भाषा प्रवाही, रोचक और मुहावरेदार हो । 
  •  कहावतों, सुवचनों का यथास्थान प्रयोग करें । 
  • शुद्ध, सुवाच्य और मानक वर्तनी के अनुसार निबंध लेखन आवश्यक है । 
  •  सहज, स्वाभाविक और स्वतंत्र शैली में निबंध की रचना हो । 
  • विचार स्पष्ट तथा क्रमबद्ध होने आवश्यक हैं। 
  • निबंध की रचना करते समय शब्द चयन, वाक्य-विन्यास की ओर ध्यान आवश्यक देना है । 
  • निबंध लेखन में विषय को प्रतिपादित करने की पद्धति के साथ ही कम-से-कम चार अनुच्छेदों की रचना हो ।
  •  निबंध का प्रारंभ आकर्षक और जिज्ञासावर्धक हो । 
  • निबंध के मध्यभाग में विषय का प्रतिपादन हो । निबंध का मध्यभाग महत्त्वपूर्णहोता है इसलिए उसमें नीरसता न हो । 
  • निबंध का समापन विषय से संबंधित, सुसंगत, उचित, सार्थक विचार तक ले जाने वाला हो । 

आत्मकथनात्मक निबंध लिखते समय आवश्यक महत्त्वपूर्ण बातें ः

  1. आत्मकथन अर्थात एक तरह का परकाया प्रवेश है । 
  2. किसी वस्तु, प्राणी, पक्षी, व्यक्ति की जगह पर स्वयं को स्थापित/ आरोपित करना होता है । 
  3. आत्मकथनात्मक लेखन की भाषा प्रथमपुरुष, एकवचन में हो । जैसे - मैं .... बोल रहा/रही हँू । 
  4.  प्रारंभ में विषय से संबंधित उचित प्रस्तावना, सुवचन, घटना, प्रसंग संक्षेप में लिख सकते हैं सीधे ‘मैं... हँू’ से भी प्रारंभ किया जा सकता है ।

वैचारिक निबंध लिखते समय आवश्यक बातें ः

  1. वैचारिक निबंध लेखन में विषय से संबंधित विचारों को प्रधानता दी जाती है । 
  2. वर्णन, कथन, कल्पना से बढ़कर विचार महत्त्वपूर्ण होते हैं । 
  3. विचार के पक्ष-विपक्ष में लिखना आवश्यक होता है । 
  4. विषय के संबंध में विचार, मुद्दे, मतों की तार्किक प्रस्तुति महत्त्वपूर्णहोती है । 
  5. पूरक पठन, शब्दसंपदा, विचारों की संपन्नता जितनी अधिक होती है उतना ही वैचारिक निबंध लिखना हमारे लिए सहज होता है ।
निबंध लेखन हिंदी | Nibandh Lekhan in hindi | Essay in Hindi

निबंध लेखन हिंदी | Nibandh Lekhan in hindi | Essay in Hindi 

    अनुक्रमणिका  INDIEX

    Maharashtra State Board 10th Std Hindi Lokbharti Textbook Solutions
    Chapter 1 भारत महिमा
    Chapter 2 लक्ष्मी
    Chapter 3 वाह रे! हम दर्द
    Chapter 4 मन (पूरक पठन)
    Chapter 5 गोवा : जैसा मैंने देखा
    Chapter 6 गिरिधर नागर
    Chapter 7 खुला आकाश (पूरक पठन)
    Chapter 8 गजल
    Chapter 9 रीढ़ की हड्डी
    Chapter 10 ठेस (पूरक पठन)
    Chapter 11 कृषक गान

    Hindi Lokbharti 10th Textbook Solutions दूसरी इकाई

    Chapter 1 बरषहिं जलद
    Chapter 2 दो लघुकथाएँ (पूरक पठन)
    Chapter 3 श्रम साधना
    Chapter 4 छापा
    Chapter 5 ईमानदारी की प्रतिमूर्ति
    Chapter 6 हम उस धरती की संतति हैं (पूरक पठन)
    Chapter 7 महिला आश्रम
    Chapter 8 अपनी गंध नहीं बेचूँगा
    Chapter 9 जब तक जिंदा रहूँ, लिखता रहूँ
    Chapter 10 बूढ़ी काकी (पूरक पऊन)
    Chapter 11 समता की ओर
    पत्रलेखन (उपयोजित लेखन)
    गद्‍य आकलन (उपयोजित लेखन)
    वृत्तांत लेखन (उपयोजित लेखन)

    कहानी लेखन (उपयोजित लेखन)
    विज्ञापन लेखन (उपयोजित लेखन)
    निबंध लेखन (उपयोजित लेखन)

    Post a Comment

    Thanks for Comment

    Previous Post Next Post